सदव्रत का प्रभाव

किसी गाँव में एक ब्राह्मण रहता था। अगर कोई भूला-भटका राही उसके घर या जाता तो वह उसकी बड़ी आव-भगत करता और बड़े प्रेम से खिलाता-पिलाता था। उसके घर से कोई भी दीन-दुखिया भूखा वापीस नहीं जाता था। अगर किसी दिन संयोग वश कोई मेहमान उसके घर नहीं जाता तो वह खुद किसी को ढूँढ़ लाने को निकल जाता। इस तरह जब बहुत दिन बीत गए तो एक दिन ब्राह्मण को यह जानने की इच्छा हुई कि इस तरह सदाव्रत करने का फल क्या होता है ?

कहानीबाजबचपन की बहोत सारी कहानियो की पोटली खोलने और आपको आपके बचपन मे ले जाने की जिम्मेदारी हमारी है| हम कहानीबाज आपके लिये लाये है, वो कहानियाँ जो आपके बेहद करीब हो...!!
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to सदव्रत का प्रभाव